Entertainment Featured Hindi Lifestyle

21 जून को लगेगा साल का सबसे भयंकर ‘सूर्यग्रहण,’ कोरोना के बीच आ गया एक और ‘संकट’!

'कोरोना' के बीच काल बनकर आ रहा है 'सूर्यग्रहण,' क्या 21 जून को खतरे में होंगी दुनिया!

21 जून को लगेगा साल का सबसे भयंकर ‘सूर्यग्रहण,’ कोरोना के बीच आ गया एक और ‘संकट’! June 18, 2020Leave a comment

21 जून को लगने वाला सूर्यग्रहण 25 साल पहले की दिलाएगा याद , एक बार फिर दिन में छा जाएगा अंधकार। यह इस साल का पहला सूर्यग्रहण होगा। यह भारत के उत्तरी भाग कें कुछ स्थान जैसे राजस्थान , हरियाणा व उत्तराखण्ड में वलयाकार अवस्था दिखाई देगी , जबकि शेष भाग में यह आंशिक सूर्यग्रहण के रूप में दिखाई देगा। ज्योतिषियों की माने तो यह कंकण आकृति ग्रहण है। सूर्यग्रहण मिथुन राशि मंगल के मृगशिरा नक्षत्र में लगेगा और तीन घंटे 25 मिनट व 17 सेकंड ग्रहण रहेगा। 5 जून के दिन चन्द्र ग्रहण लगा था , इसके 16 दिन बाद फिर सूर्यग्रहण लग रहा है। चन्द्र ग्रहण में सूतक मान्य नहीं था , लेकिन सूर्यग्रहण में सूतक काल मान्य होगा।

सूतक काल 12 घंटे पहले से ही लग जाएगा।
ग्रहण के संकीर्ण वलय पथ में स्थित रहने वाले कुछ प्रमुख स्थानों में देहरादून , कुरूक्षेत्र , चमोली , जोशीमठ , सिरसा सूरतगढ़ आदि है। वलयाकार ग्रहण की अधिकतम अवस्था के समय भारत में चन्द्रमां द्वारा सूर्य का आच्छादन लगभग 98.6% होगा। आंशिक ग्रहण की अधिकतम अवस्था के समय चन्द्रमां द्वारा सूर्य का आच्छादन दिल्ली में लगभग 94% , गुवाहाटी में 80% , पटना में 78% , सिलचर में 75% , कोलकाता में 66% , मुबंई में 62% , बंगलोर में 37% , चैन्नई में 34% , पोर्ट ब्लेयर में 28% आदि होगा।

ग्रहण की आंशिक प्रावस्था भारतीय मानक समय (भामास) अनुसार 9 बजकर 16 मिनट पर प्रारंभ होगी और 15 बजकर 4 मिनट पर समाप्त होगी। वलयाकार अवस्था भामास अनुसार 10 बजकर 19 मिनट पर प्रारंभ होगी और 14 बजकर 2 मिनट पर समाप्त होगी।
वलयाकार पथ कोंगो , सुडान , इथियोपिया , यमन , सऊदी अरब , ओमान , पाकिस्तान सहित भारत और चीन के उत्तरी भागों से होकर गुजरेगा। चन्द्रमां की प्रच्छाया से आंशिक ग्रहण होता है जो कि अफ्रीका ( पश्चिमी तथा दक्षिणी हिस्से को छोड़कर ) , दक्षिण व पूर्व यूरोप , एशिया ( उत्तर एवं पूर्व रूस को छोड़कर ) तथा ऑस्ट्रेलिया के उत्तरी हिस्सों के क्षेत्रों में दिखाई देगा। ज्योतिषियों की मान्यता के अनुसार 21 जून को लगने वाला सूर्यग्रहण कंकणाकृति ग्रहण होगा जिसमें सूर्य वलयाकार दिखाई देगा। ऐसी स्थिति में जब ग्रहण चरम पर होता है तो सूर्य किसी चमकते हुए कंगन , रिंग या अंगुठी की तरह दिखता है। ठीक ऐसा ही ग्रहण 25 साल पहले 1995 में लगा था। 24 अक्टूबंर 1995 का दिन आज भी देश के लोगों को अच्छी तरह से याद है , जब भरे दिन में अंधेरा हो गया था। उस समय दिन में ही ऐसा लगा मानो रात हो गई है।

पक्षी भी अपने घोसलों की और लौट आए थे। दिन में ही अंधेरा छा गसा था , ठंडी – ठंडी हवाएँ चल रही थी। उस ग्रहण की पहले से ही खूब चर्चा थी। जब ग्रहण लगा तो उस जमाने के हिसाब से सीमित प्रचार माध्यमों ने उसे बहुत अच्छे ढंग से दिखाया था। स्कूली बच्चों को स्कूल की ओर से मैदान में ग्रहण दिखाने के लिए ले जाया गया था। अब 21 जून 2020 को लगने जा रहा सूर्य ग्रहण भी कंकणाकृति होगा जो पुराने ग्रहण की याद को ताजा करेगा।
सूर्य ग्रहण अमावस्या के दिन तब घटित होता है जब चन्द्रमां , पृथ्वी एवं सूर्य के मध्य आ जाता है तथा ये तीनों एक ही सीध में होते है। वलयाकार सूर्य ग्रहण तब घटित होता है जब चन्द्रमां का कोणीय व्यास सूर्य के कोणीय व्यास की अपेक्षा छोटा होता है जिसके परिणामस्वरूप चन्द्रमां सूर्य को पूर्णतया ढ़क नहीं पाता है। ऐसे में चन्द्रमां के चतुर्दिक सूर्य चक्रिका का छल्ला दिखाई देता है। ग्रहण ग्रस्त सूर्य को थोड़े समय के लिए भी नग्न आँखों से नहीं देखना चाहिए। सूर्य के अधिकतम भाग को चन्द्रमां ढ़क ले तब भी ग्रहण ग्रस्त सूर्य को न देखें अन्यथा इससे आँखों को स्थाई नुकसान हो सकता है, जिससे अंधापन हो सकता है।