Featured Health Hindi Lifestyle

सभी ‘सैनिटाइज़र’ वायरस को नहीं मारते ध्यान दें! आप खतरे में आ सकते हैं!

आपका सैनिटाइज़र 'वायरस' को मारता है या नहीं इस तरह जानिए!

सभी ‘सैनिटाइज़र’ वायरस को नहीं मारते ध्यान दें! आप खतरे में आ सकते हैं! May 20, 2020Leave a comment

आज के समय में सभी लोग सैनिटाइजर का उपयोग यह सोचकर करते हैं ,की इससे उनके हाथ में जो गलती से वायरस आ गए होंगे वह मर जाएंगे! परंतु ऐसा बिल्कुल भी नहीं. आइए समझते हैं क्यों.
सेनीटाइजर का मुख्य उद्देश्य बिना पानी के आपके हाथ से वायरस खत्म करने के लिए उपयोग होता है ,परंतु सेनीटाइजर में वायरस को मारने का काम उसमें उपयोग होने वाली अल्कोहल की मात्रा करती है अगर सेनीटाइजर में उपयोग होने वाली अल्कोहल की मात्रा 60% सेेे कम होती है तो ऐसा सैनिटाइजर वायरस खत्म नहीं कर सकता इसलिए बहुत महत्वपूर्ण है जो भी आप सैनिटाइजर खरीदें तो उसमें अल्कोहल की मात्रा की जांच करें यदि अल्कोहल की मात्रा 60% से अधिक हो तभी खरीदें अन्यथा घर में किसी भी साबुन से हाथ धोना ज्यादा सुरक्षित है .

अभी ज्यादा मात्रा में सैनिटाइजर की मांग बढ़ने से बहुत सारे नकली सैनिटाइजर बाजार में आ गए हैं जो यह लिख तो देते हैं कि इसमें 60 परसेंट से अधिक अल्कोहल डाला गया है परंतु वास्तविकता में ऐसा नहीं होता ऐसेे में आपके ऊपर वायरस से प्रभावित होने का खतरा बढ़ जाता है अब हम कैसे पता करेंगे ,जो हम सेनीटाइजर उपयोग कर रहे हैं वह असली है या नकली ! आइए जानते हैं.

असली सैनिटाइजर की पहचान के लिए आप थोड़ा सा सैनिटाइजर एक बर्तन में ले और उसमें आग लगा दे अगर पुरा सैनिटाइजर बिना अशुद्धि छोड़ें तुरंत जलकर उड़ जाना चाहिए, अगर यह ज्यादा समय लेगा जलने में अशुद्धि उतनी ज्यादा हो सकती है अल्कोहल जितना ज्यादा होगा उतनी ही तेजी से जलकर उड़ेगा तो यह सही है और जब आप हाथों पर सैनिटाइजर लगाएं तो यह तुरंत उड़ जाना चाहिए .
इन सभी बातों का अगर आप ध्यान रखेंगे तो आप और आपका परिवार सुरक्षित रहेगा वरना आप घर में उपलब्ध किसी भी साबुन से आराम से 30 सेकेंड तक हाथ धोएं यह सबसेेे ज्यादा सुरक्षित और सस्ता तरीका है.