Featured Hindi India News

‘लॉकडाउन’ में बेरोज़गारों को सरकार दे रही है ‘नौकरी,’ ऐसे करें ‘अप्लाई’!

'लॉकडाउन' में बेरोज़गारों के लिए सरकार का 'प्लान,' ऐसे पा सकते हो 'नौकरी'!

‘लॉकडाउन’ में बेरोज़गारों को सरकार दे रही है ‘नौकरी,’ ऐसे करें ‘अप्लाई’! June 3, 2020Leave a comment

लॉकडाउन के कारण अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका लगा है। सब कुछ बंद होने से मंदी की मार पड़ी और कई कर्मचारियों की नौकरियां जा रही हैं। ऐसे में नई नौकरी की तलाश कर रहे कर्मचारियों को परेशान करने की जरूरत नहीं है। श्रम और रोजगार मंत्रालय लॉकडाउन के कारण बेरोजगारों के लिए एक ऑनलाइन जॉब फेयर तैयार कर रहा है।

भारत में कोरोनावायरस को रोकने के लिए 25 मार्च को तालाबंदी की घोषणा की गई थी। कई कंपनियों को बंद कर दिया गया था, और कई नौकरियों को समाप्त कर दिया गया था। इस नुकसान की भरपाई के लिए कंपनियों ने कर्मचारियों को निकाल दिया।
इस समस्या को हल करने के लिए, श्रम और रोजगार मंत्रालय राष्ट्रीय व्यावसायिक सेवा योजना (NCS) के तहत एक ऑनलाइन जॉब फेयर की योजना बना रहा है। बता दें कि NCS के तहत कुल 73 लाख लोगों को रोजगार मिला था।

राष्ट्रीय व्यावसायिक सेवा योजना (एनसीएस) के तहत ऑनलाइन नौकरी प्रदर्शनी!
मंत्रालय ने TCS के साथ एक ऑनलाइन व्यावसायिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम शुरू कर रहा है। मंत्रालय कहता है, कई हैं, और उन्हें अपने कौशल के लिए सही दिशा दी जानी चाहिए ताकि वे अपने कौशल के अनुसार अच्छी नौकरियों में बदल सकें।
नौकरी चाहने वालों के लिए प्रशिक्षण!
लोगों को उनकी मांग पर प्रशिक्षित किया जा सकता है। व्यक्तित्व विकास, कॉर्पोरेट शिष्टाचार और प्रस्तुति कौशल में प्रशिक्षण मिलेगा । साथ ही जो लोग नौकरी पाना चाहते हैं उनकी एक वीडियो प्रोफाइल भी बनाई जाएगी। इससे कंपनियां ऑनलाइन नौकरी चाहने वालों की गुणवत्ता का पता लगा सकती हैं।

प्रशिक्षण से वीडियो प्रोफ़ाइल बनाने के लिए कोई शुल्क नहीं है!
ये कार्य राष्ट्रीय श्रम सेवा के तहत मुफ्त में किए जाते हैं। नौकरी चाहने वालों को प्रशिक्षण से लेकर वीडियो प्रोफाइल बनाने तक कोई शुल्क नहीं देना पड़ता है। नौकरी चाहने वालों को एनसीएस पोर्टल पर लॉग इन करना होगा। पूरी जानकारी पोर्टल पर उपलब्ध है।
13 मिलियन से अधिक लोगों की नौकरियां खतरे में हैं!
गौरतलब है कि हाल ही में हुए एक सर्वेक्षण से पता चला है कि भारत में 130 मिलियन से अधिक लोगों की नौकरियां खतरे में हैं। तालाबंदी के कारण, 13.5 करोड़ लोग काम पर जा सकते हैं और 17.4 करोड़ लोग बेरोजगार हो जाएंगे। परिणामस्वरूप, देश में बेरोजगारी 7.6 प्रतिशत से बढ़कर 35 प्रतिशत हो सकती है।