Featured Health Hindi Lifestyle

आपको भी है ‘ओवर थिंकिंग’ की प्रॉब्लम तो ऐसे करे ‘कंट्रोल’!

'ओवर थिंकिंग' की प्रॉब्लम आपको भी है तो आजमाए ये टिप्स!

आपको भी है ‘ओवर थिंकिंग’ की प्रॉब्लम तो ऐसे करे ‘कंट्रोल’! May 22, 2020Leave a comment

अक्सर बहुत से लोगो मे ओवर थिंकिंग यानी किसी बात के बारे में हद से ज्यादा सोचने की समस्या होती है और कई बार यह आदत हमको बहुत ज्यादा डिस्टर्ब कर देती है। जब हम बहुत ज्यादा सोंचने लगते है तो अपने ही अंदर तरह-तरह के विचार पैदा होने लगते हैं जिससे कि हम ओर ज्यादा परेशान होने लगते है। जितना ज्यादा सोचते है उतना ज्यादा परेशान होते जाते हैं। तो आइए जानते हैं किस तरह से करे ओवर थिंकिंग को कंट्रोल।

किसी बात की यदि हम बहुत ज्यादा चिंता लेने लगते है तो तरह-तरह के विचार आने लगते हैं। इसलिए जब भी कोई नकारात्मक विचार दिमाग मे आए आप अपना ध्यान किसी और सकारात्मक बातों में लगाने की कोशिश करे किसी काम से होने वाले सकारात्मक परिणाम के बारे में सोचे। ऐसा करना शुरू में मुश्किल लगेगा मगर धीरे-धीरे आप सिख जाएंगे की कैसे किसी काम के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण बनाए। हर बात में नकारात्मकता की जगह सकारात्मक बात सोचे अच्छे परिणामो की उम्मीद करे। जब भी बुरी बातें दिमाग मे आए याद रखें कि आप जिस बात को दिमाग मे सोच रहे हैं वो सिर्फ आपके द्वारा बनाई गई बातें हैं जो आपने बहुत ज्यादा सोच-सोच कर पैदा की है। वो सिर्फ काल्पनिक है। अपने आप को यह अहसास दिलाए। जैसे ही आप खुद को यह समझा लेंगे की यह सब सिर्फ आपके दिमाग मे चल रही ओवर थिंकिंग है और कुछ नही तो आप परेशान होना बंद हो जाएंगे।


बार-बार सिर्फ किसी भी काम मे सकारात्मक पहलू को खोजे कुछ दिन बाद आपका नजरिया ही ऐसा होगा कि आपको हर काम मे सिर्फ सकारात्मकता ही दिखेगी और सकारात्मक बातों कि खास बात है। जितना ज्यादा सकारात्मक बातें सोचेंगें उतना ज्यादा आप अंदर से खुश रहेंगे । ओवर थिंकिंग सिर्फ आपके दिमाग मे लगातार बुरे परिणामो की काल्पनिक चिंता है। इससे ज्यादा कुछ नहीं। जैसे ही आप यह समझ जाएंगे की आप ऐसी बातों को लेकर परेशान हैं, जिनका अभी कोई अस्तित्व ही नही है, तो आप ऐसे विचारों पर नियंत्रण भी पा सकेंगे। साथ ही जब भी आप किसी बात की चिंता से बहुत परेशान हैं तो अपने आप को दूसरी बातों में व्यस्त रखे। अपनी रुचि को समय दे या अपने परिवार के लोगों के साथ बैठे, या बात करे। अपने नजदीकी दोस्तों के बात करे।आपके जीवन के अच्छे पलो को याद करे। आप अपने आप ही खुशी महसूस करेंगे।